जरूरतों का अंदाज विभिन्न व्यवसायों में एक आम प्रथा है। अंदाज के आधार पर, अगले चरणों की पहचान की जाती है। शिक्षक यह समझने के लिए डायग्नोस्टिक असेसमेंट्स करते हैं कि छात्र को क्या चाहिए और तदनुसार पाठों की योजना बनाते हैं।

यह सफर शुरू करने के लिए धन्यवाद। जब आप कोर्स करते हैं, तब सीखने के प्रभावी अनुभव के लिए, कृपया हर तरह के नोटिफिकेशन को बंद कर दें, अपनी सीख और प्रश्न लिखने के लिए नोटबुक का उपयोग करें। यह कोर्स डायग्नोस्टिक असेसमेंट्स, इसके लिए आवश्यकता, इसके उपयोग और इसकी सीमाओं के बारे में है। आप इस कोर्स के जरिये डायग्नोस्टिक असेसमेंट्स बनाने का तरीका भी सीखेंगे।

इसमें 5 खंड हैं।

खंड 1- डायग्नोस्टिक असेसमेंट्स संबंधी वर्तमान समझ पर चिंतन करें और डायग्नोस्टिक असेसमेंट्स की आवश्यकता का पता लगाएं

खंड 2- डायग्नोस्टिक असेसमेंट्स की विशेषताओं, इसके उपयोग और इसकी सीमाओं का पता लगाएं।

खंड 3- डायग्नोस्टिक असेसमेंट्स बनाने के चरणों का पता लगाएं और एक बनाकर दिखाएं

खंड 4- सीख और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के विभिन्न तरीके

खंड 5- मूल्यांकन

टीएएल स्टैंडर्ड्स :

P-1 मानक बनाएं या लाएं - बड़े लक्ष्यों के सामने छात्र कहां हैं, यह सुनिश्‍चित करने के लिए (ट्रैकिंग और ग्रेडिंग सिस्टम के साथ) नैदानिक, रचनात्‍मक और योगात्मक मूल्यांकन संरेखित करें।

C-6 डेटा संग्रह, परावर्तन और सीख के एक चक्र के बाद, प्रभावशीलता को अधिकतम करने के लिए आवश्यक कोर्स को (बड़े लक्ष्यों, निवेश रणनीतियों, योजना, निष्पादन और/या अथकता) से समायोजित करें।

सीईएनटीए स्टैंडर्ड्स

SA.1.1b. विभिन्न मूल्यांकन विधियों और उपकरणों की समझ।

SA.2.1a. मूल्यांकन उद्देश्यों और कक्षा के संदर्भ के अनुरूप मूल्यांकन का चयन करने/संशोधित करने और लागू करने की क्षमता।

SA.2.1b. मूल्यांकन डेटा का मात्रात्मक और गुणात्मक रूप से विश्लेषण करने की क्षमता।

SA.2.2a. मूल्यांकन उद्देश्यों और कक्षा के संदर्भ के अनुरूप मूल्यांकन बनाने और लागू करने की क्षमता।


Course Duration in Hours: Approx. 2-3 hours
Skill Level: Beginner